उत्तर प्रदेशदेशब्रेकिंग न्यूज़रायबरेली

रायबरेली : सब्जी खरीदने को लेकर दो पक्षों हुआ विवाद, आधा दर्जन लोग घायल

रायबरेली - कृषि उत्पादन मंडी समिति लालगंज में व्यापारियों और बहाई गांव के कुछ युवकों के बीच टमाटर खरीदने को लेकर हुई कहासुनी मारपीट में बदल गई। जिसमें सात आठ लोग घायल हुए हैं।

रायबरेली – कृषि उत्पादन मंडी समिति लालगंज में व्यापारियों और बहाई गांव के कुछ युवकों के बीच टमाटर खरीदने को लेकर हुई कहासुनी मारपीट में बदल गई। जिसमें सात आठ लोग घायल हुए हैं। दो संप्रदायों के बीच झगड़ा होने की सूचना मिलते ही स्थानीय प्रशासन सहित जिला प्रशासन में भी हड़कंप मच गया। पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी और एडीएम प्रशासन अमित कुमार ने लालगंज मंडी समिति पहुंचकर घटनास्थल का मौका मुआयना किया।इसके बाद अधिकारियों की टीम बहाई गांव और सरकारी अस्पताल लालगंज भी पहुंची।

एसपी ने सरकारी अस्पताल पहुंचकर इमरजेंसी में मौजूद डॉक्टर अंसारी से घायल लोगों की चोटों की जानकारी ली ।डॉक्टर के द्वारा घायलों के बाबत एसपी को पूरी जानकारी दी गई ।बताते चलें कि मंगलवार सुबह 8बजे के करीब बहाई गांव के कुछ मुस्लिम युवक मंडी समिति लालगंज सब्जी खरीदने गए थे जहां बहाई निवासी युवक इकरामुद्दीन शिवम सोनकर पुत्र सुरेश सोनकर की दुकान पर टमाटर खरीदने लगा। तभी टमाटर की तौल को लेकर दोनों पक्षों में बहस हो गई ।शिवम सोनकर का कहना है कि इकरामुद्दीन गाली गलौज करने लगा ।उनके द्वारा विरोध जताए जाने पर उसने बहाई गांव से 20-25 युवकों को बुला लिया और दुकानदारों को मारा पीटा जिसमें उसके चाचा भाई लाल सोनकर को गंभीर चोटे आई है। अन्य लोग भी चोटिल हुए हैं ।

वहीं दूसरे पक्ष के पांच लोगों को भी चोटे आई हैं जिनमें नईमुद्दीन ,इजहारुद्दीन, सलीम अख्तर ,शोएब मोहम्मद और इकरामुद्दीन का लालगंज सरकारी अस्पताल में मेडिकल हुआ है, जिनमें इकरामुद्दीन और शोएब को जिला अस्पताल रेफर किया गया है। मामले में मंडी दुकानदार शिवम सोनकर ने मारपीट करने वाले युवकों के खिलाफ कोतवाली में लिखित शिकायत किया है। वहीं पुलिस अधीक्षक आलोक प्रियदर्शी ने घटना के बाबत बताया कि टमाटर खरीदने को लेकर दो पक्षों में मारपीट हुई थी ।घटनास्थल का मौका मुवायना कर जानकारी प्राप्त की गई है और मारपीट करने वालों के खिलाफ विधिक कार्यवाही की जा रही है।

रिपोर्टर – मनीष वर्मा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button