विदेश

यूक्रेन का कहना है कि उसने रूस के 4,300 सैनिक मार गिराए गए हैं और 200 को बंधक बना लिया है.

रूस ने मृतकों और घायलों की संख्या का खुलासा नहीं किया है. मेजर जनरल कोनाशेन्कोव ने कहा कि यूक्रेन के सैनिकों के मुकाबले रूस को काफी कम नुकसान हुआ है.

 रूस की सेना भले ही यूक्रेन से ज्यादा शक्तिशाली है, लेकिन इस जंग (Russia-Ukraine War) में उसे भी नुकसान उठाना पड़ रहा है. रूस ने रविवार को माना कि यूक्रेन में उसके कुछ सैनिक हताहत हुए हैं. युद्ध शुरू होने के बाद से यह पहली बार है जब रूस ने अपने सैनिकों के मारे जाने की बात स्वीकारी है. रूस के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता मेजर जनरल इगोर कोनाशेन्कोव ने बताया कि हमारे कुछ सैनिकों की जान गई है और कुछ घायल हुए हैं.

यूक्रेन ने 200 को बनाया बंधक!

रूस ने मृतकों और घायलों की संख्या का खुलासा नहीं किया है. मेजर जनरल कोनाशेन्कोव ने कहा कि यूक्रेन के सैनिकों के मुकाबले रूस को काफी कम नुकसान हुआ है. हालांकि, यूक्रेन का दावा है कि उसने रूस के करीब 4,300 सैनिक मारे गए हैं और 200 से भी अधिक को युद्धबंदी बना लिया गया है. यूक्रेन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में कहा कि जंग शुरू होने के बाद से अब तक रूस के 4,300 सैनिक मार गिराए गए हैं और 200 से अधिक को यूक्रेनी सेना ने बंधक बना लिया है.

1,067 सैन्य अड्डों को बनाया निशाना

मेजर जनरल कोनाशेन्कोव ने यह भी कहा कि बृहस्पतिवार को हमला शुरू होने से लेकर अब तक रूस की सेना ने यूकेन के 1,067 सैन्य अड्डों को निशाना बनाया है, जिनमें 17 कमान पोस्ट और संपर्क केंद्र, 38 वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली और 56 रडार प्रणाली शामिल हैं. गौरतलब है कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने गुरुवार को यूक्रेन के साथ जंग का ऐलान किया था. तभी से यूक्रेन में धमाकों की गूंज सुनाई दे रही है.

Russia ने UNSC में किया बचाव 

वहीं, रूस ने यूक्रेन के इस दावे को मानने से इनकार किया है. साथ ही रूसी संघ के प्रतिनिधि ने UNSC में कहा रूसी सेना यूक्रेन में नागरिकों को धमकी नहीं देती है, वह नागरिक बुनियादी ढांचे पर गोलाबारी नहीं कर रहे है. नागरिकों के लिए खतरा अब यूक्रेनी राष्ट्रवादियों की तरफ से उत्पन्न किया गया है, जो वहां के लोगों को ढाल की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं. उधर यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की ने ऐलान किया है कि उनकी तरफ से अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) में रूस के खिलाफ याचिका डाली गई है. इसमें आरोप लगाया गया है कि रूस ने युद्ध के बहाने मासूम नागरिकों के खिलाफ नरसंहार किया है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button