उत्तर प्रदेशदेशब्रेकिंग न्यूज़सम्भल

संभल – मुलायम सिंह यादव रखते थे व्यापक दृष्टिकोण: शिक्षा मंत्री

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव का गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया। मुलायम सिंह यादव को मेदांता अस्पताल गुरुग्राम में आईसीयू में भर्ती कराया गया था जहां उनका इलाज जारी था।

समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव का गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में निधन हो गया। मुलायम सिंह यादव को मेदांता अस्पताल गुरुग्राम में आईसीयू में भर्ती कराया गया था जहां उनका इलाज जारी था। उनके निधन की जानकारी उनके बेटे सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने दी। उन्होंने कहा, मेरे आदरणीय पिता जी और सबके नेता जी नहीं रहे। मुलायम सिंह यादव की मृत्यु की सूचना के बाद राजनीतिक हल्कों में दुख की लहर दौड़ गई। यूपी की तमाम पार्टियों के नेताओं ने अपनी शोक संवेदनाएं प्रकट की है। मुलायम सिंह यादव की मृत्यु पर यूपी में तीन दिन का राजकीय शोक घोषित कर दिया गया है। इसी क्रम में शिक्षा मंत्री गुलाबो देवी ने सपा संरक्षण मुलायम सिंह के निधन पर शोक जताते हुए कहा कि सपा संरक्षक व्यापक दृष्टिकोण रखते थे। सपा सरकार में मुलायम सिंह ने क्षणिक मुलाकात में शिक्षण कार्य संबंधित वर्षों से चली आ रही है उनकी समस्या का निस्तारण करा दिया था।

शिक्षा मंत्री गुलाब देवी ने मुलायम सिंह की मृत्यु पर शोक संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि सबसे पहले मैं मुलायम सिंह के चरणों में नमन करती हूं। भगवान से कामना करती हूं कि ईश्वर अपने चरणों में उन्हें स्थान दें। उनका जो परिवार है इस विपत्ति की घड़ी में उनके परिवार को इस कष्ट को सहन करने की क्षमता दे। उनके जितने भी संबंधी हैं पार्टी पदाधिकारी कार्यकर्ता है उनको भी इस संवेदना सहन करने की ईश्वर क्षमता दे। मुलायम सिंह यादव एक व्यापक दृष्टिकोण के व्यक्ति थे। शिक्षा मंत्री ने आगे कहा कि एक बार मेरी मुलाकात कुछ क्षणों के लिए मुलायम सिंह से हुई थी वह भी सदन जा रहे थे मैं भी वही जा रही थी। उस समय मेरा हालचाल जाना और मेरी समस्या सुनी। मैंने कहा मेरा विशेष अवकाश नहीं लग पा रहा है जिससे मेरी सीनियरिटी अकाउंट नहीं हो पा रही है। उन्होंने मुझे पांच बजे ऑफिस बुलाया मैं उनके ऑफिस गई। उन्होंने अपनी विशेष सचिव अनीता सिंह को बुलाया। जो मेरे विशेष अवकाश थे, मंत्री पद पर विधायक पद पर वह नही अकाउंट किए जा रहे थे। मुलायम सिंह ने दो महीने में मेरे अवकाश शासन के माध्यम से स्वीकृत करा दिये। जिसकी वजह से मेरी सीनियरिटी अकाउंट हुई और मैं प्रिंसिपल बनी। मैं हमेशा ही उनका आभार देती रहती हूं और वह जहां भी रहे राजा बनकर रहे।

रिपोर्टर – उवैस दानिश

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button