देश

धर्म संसद’ में दिए बयानों पर जताई असहमति ऐसी बातें हिंदुत्व की नहीं’

उनका कहना है कि 'धर्म संसद' में दिए गए बयान हिंदुओं के शब्द नहीं थे और हिंदुत्व का पालन करने वाले लोग कभी उनसे सहमत नहीं हो सकते.

Advertisements
AD
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत ने (RSS Chief Mohan Bhagwat) ‘धर्म संसद’ (Dharam Sansad) में कथित तौर पर कही गईं हिंदुत्व की बातों पर असहमति जताई है. उन्होंने कहा है कि ‘धर्म संसद’ में दिए गए बयान हिंदुओं के शब्द नहीं थे और हिंदुत्व का पालन करने वाले लोग कभी उनसे सहमत नहीं हो सकते. एक मीडिया समूह द्वारा आयोजित कार्यक्रम में ‘हिंदुत्व और राष्ट्रीय एकीकरण’ विषय पर बोलते हुए उन्होंने ये बात कही.

‘मैं गुस्से में कुछ कह दूं, तो वो हिंदुत्व नहीं’

RSS प्रमुख ने कहा कि धर्म संसद में दिए गए बयान हिंदुओं के शब्द नहीं थे. अगर मैं कभी कुछ गुस्से में कहता हूं, तो यह हिंदुत्व नहीं है. उन्होंने आगे कहा, ‘यहां तक कि वीर सावरकर ने कहा था कि अगर हिंदू समुदाय एकजुट और संगठित हो जाता है तो वह भगवद् गीता के बारे में बोलेगा न कि किसी को खत्म करने या उसे नुकसान पहुंचाने के बारे में बोलेगा’.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button