बिज़नेसब्रेकिंग न्यूज़

महंगाई के कारण जीएसटी दरों को युक्तिसंगत बनाने की गुंजाइश कम

मौजूदा महंगाई और बढ़ी हुई कीमतों के कारण वस्तुओं और सेवाओं पर जीएसटी दरों को युक्तिसंगत बनाने की गुंजाइश कम है। बता दें कि देश में महंगाई बढ़ी है

महंगाई और कीमतों की स्थिति के बीच वस्तुओं और सेवाओं पर जीएसटी दरों को युक्तिसंगत बनाने की गुंजाइश काफी कम है। माल एवं सेवा कर (जीएसटी) व्यवस्था में अभी चार टैक्स स्लैब- 5 प्रतिशत, 12 प्रतिशत, 18 प्रतिशत और 28 प्रतिशत है। इन दरों के हिसाब से अलग-अलग चीजों पर टैक्स लगाया जाता है। लेकिन, अभी इन टैक्स स्लैब को घटाकर संभवत: तीन करने पर विचार किया जा रहा है। अगर ऐसा होता है तो कुछ वस्तुओं पर टैक्स बढ़ाया जाएगा जबकि कुछ पर कम किया जाएगा। वहीं, सोने और सोने के आभूषणों की बात करें तो इन पर तीन प्रतिशत टैक्स लगता है।

जीएसटी परिषद ने पिछले साल कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई की अध्यक्षता में राज्य के मंत्रियों का एक पैनल गठित किया था, जो कर दरों को तर्कसंगत बनाकर और कर दरों में विसंगतियों को दूर करके राजस्व बढ़ाने के तरीके सुझाएगा। इससे पहले 1 जुलाई, 2017 को जीएसटी लागू होने के समय, केंद्र ने राज्यों को जून 2022 तक 5 साल के लिए कम्पनसेट करने और 2015-16 को आधार वर्ष मानते हुए 14 प्रतिशत प्रति वर्ष की दर से उनके राजस्व की रक्षा करने पर सहमति व्यक्त की थी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button