स्वास्थ्य

सिरदर्द ही नहीं डायबिटीज, कब्ज जैसी कई गंभीर बीमारियों को भी दावत देता है स्ट्रेस

स्ट्रेस को हल्के में लेने की गलती न करें क्योंकि बहुत ज्यादा तनाव कई गंभीर बीमारियों की वजह बन सकता है।

शरीर के अन्य हिस्सों की तरह ब्रेन को भी आराम की जरूरत होती है। जब मस्तिष्क पर उसकी कार्य क्षमता से ज्यादा दबाव पड़ता है, तो यह उसके भार को वहन नहीं कर पाता। जब इसके न्यूरोट्रांसमीटर्स समस्याओं का हल ढूंढते हुए थक जाते हैं, तो सिरदर्द और चिड़चिड़ापन जैसे लक्षणों के रूप में व्यक्ति का तनाव प्रकट होता है।

अनिद्रा

तनाव का पहला असर व्यक्ति की नींद पर पड़ता है। जब इससे लड़ने के लिए ब्रेन में मौजूद सिंपैथेटिक नर्व ट्रांसमीटर्स ज्यादा एक्टिव हो जाते हैं, तो इससे व्यक्ति को अनिद्रा की समस्या होती है।

2. सर्दी-जुकाम और बुखार

जो लोग अकसर परेशान रहते हैं, उनके ब्रेन के न्यूरोट्रांसमीटर्स तनाव से लड़कर दुर्बल हो जाते हैं। इससे शरीर का इम्यून सिस्टम कमजोर पड़ जाता है। यही वजह है कि तनवा होने पर सर्दी-जुकाम और बुखार जैसी समस्याएं बार-बार परेशान करती हैं।

 हाई ब्लड प्रेशर

तनाव में शरीर की ब्लड वेसेल्स सिकुड़ जाती हैं और दिल की धड़कन बढ़ जाती है। ऐसे में रक्त प्रवाह का तेज होना स्वाभाविक है, जिससे व्यक्ति का ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। अगर सही समय पर इसे नियंत्रित न किया जाए तो यही समस्या हृदय रोग का कारण बन जाती है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button