क्राइम न्यूज़

राजस्थान के सीएम के बेटे पर व्यापारी ने लिया यूटर्न

नासिक में धोखाधड़ी के एक मामले में राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत के खिलाफ FIR दर्ज की गई थी. अब शिकायतकर्ता ने FIR में से वैभव का नाम हटाने की बात कही है

नासिक जिले में 14 लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराने वाला व्यापारी FIR में से अब राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत का नाम हटवाना चाहता है. एक पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी दी.

भ्रमित करने का लगाया आरोप

व्यापारी सुशील पाटिल (33) की शिकायत के आधार पर नासिक में गंगापुर पुलिस ने पिछले सप्ताह मुख्यमंत्री के बेटे समेत 14 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज की थी. अधिकारी ने बताया कि गंगापुर पुलिस ने पाटिल का पूरक बयान दर्ज किया था, जिसमें उसने दावा किया कि गुजरात के कांग्रेस कार्यकर्ता और मामले के मुख्य आरोपी सचिन वलेरा के उन्हें भ्रमित करने के कारण उन्होंने वैभव गहलोत का नाम लिया था.

EOW को ट्रांसफर की गई जांच

पाटिल के बयान दर्ज करने के बाद, नासिक के पुलिस आयुक्त दीपक पांडे ने मामले की जांच आर्थिक अपराध शाखा (EOW) को स्थानांतरित कर दिया था. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि पाटिल ने उन्हें बताया कि वलेरा वैभव गहलोत का नाम लेता था, जिसके कारण पाटिल ने शिकायत में उसका नाम लिया, लेकिन अब उन्हें वैभव गहलोत के खिलाफ कोई शिकायत नहीं है.

14 लोगों के खिलाफ थी FIR 

इससे पहले, नासिक कि एक अदालत के निर्देश के बाद पुलिस ने 420, 406 और 468 सहित भारतीय दंड संहिता (IPC) की विभिन्न धाराओं के तहत 14 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज की थी. शिकायतकर्ता के अनुसार, आरोपी ने उसे हाई रिटर्न के वादे के साथ अपनी कंपनी में एक गैर-सक्रिय भागीदार की भूमिका की पेशकश की और कथित तौर पर उसे 6.8 करोड़ रुपये का चूना लगाया.

वैभव से नहीं मिले कभी

अधिकारी ने कहा कि पूरक बयान में पाटिल ने पुलिस को बताया कि वह वैभव गहलोत से कभी नहीं मिले और न ही प्रत्यक्ष रूप से उन्हें कोई पैसा दिया और न ही कोई पैसा भेजा.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button