विदेश

हांग कांग में कोरोना वायरस की वजह से 600 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं.

यह संख्या इसी तरह के दूसरे बड़े शहरों के आंकड़ों के मुकाबले कम ही है. लेकिन अब यह संख्या बढ़ती जा रही है.

हांग कांग में कोविड से इतने लोगों की मौत हो गई है कि अस्पतालों और मुर्दाघरों में लाशों को रखने के लिए जगह कम पड़ रही है. संक्रमण के मामलों और संक्रमण से मरने वालों की संख्या रिकॉर्ड स्तरों को छू रही है.हांग कांग में कोरोना वायरस महामारी का प्रकोप और गहराता जा रहा है और नियंत्रण पाने की सरकार की कोशिशों पर हावी होता जा रहा है. हांग कांग के पब्लिक डॉक्टर्स एसोसिएशन के प्रमुख टोनी लिंग ने बताया कि पूरे शहर के अस्पतालों में दर्जनों लाशें मुर्दाघरों तक पहुंचाए जाने का इंतजार कर रही हैं. उन्होंने बताया कि मानव संसाधनों और भंडारण क्षमता की इतनी कमी है कि इन लाशों को पहुंचाए जाने में अभी और समय लगेगा. सरकार और अस्पताल प्राधिकरण ने टिप्पणी के लिए अनुरोध का तुरंत जवाब नहीं दिया था. (पढ़ें: विदेशी नौकरों के लिए बेरहम हांगकांग) एक सप्ताह में 300 की मौत 2020 में महामारी की शुरुआत से लेकर अभी तक हांग कांग में कोरोना वायरस की वजह से 600 से ज्यादा लोग मारे जा चुके हैं. यह संख्या इसी तरह के दूसरे बड़े शहरों के आंकड़ों के मुकाबले कम ही है. लेकिन अब यह संख्या बढ़ती जा रही है. रविवार को एक ही दिन में 83 लोगों की मौत हो गई है, जो अपने आप में एक रिकॉर्ड है. पिछले एक सप्ताह में करीब 300 लोगों की जान जा चुकी है, जिनमें से अधिकांश लोगों ने टीका नहीं लगवाया था. हांग कांग में ऐसे बुजुर्ग बड़ी संख्या में हैं जिन्होंने टीका नहीं लगवाया है. कई लोगों ने दुष्परिणामों की वजह से टीका नहीं लगवाया तो कई लोगों ने 2021 में वायरस को नियंत्रण में रखने में हांग कांग की सफलता की वजह से नहीं लगवाया. (पढ़ें: कनाडा: वैक्सीन प्रदर्शनों के खिलाफ ट्रूडो ने किया आपात शक्तियां का आह्वान) हांग कांग की आबादी करीब 74 लाख है. विशेषज्ञों का कहना है कि अगर इसी तरह कोविड से मौतों का सिलसिला चलता रहा तो मई के मध्य तक मरने वालों की कुल संख्या 3,206 हो जाएगी. 2020 के सरकारी आंकड़ों के मुताबिक हांग कांग में हर महीने औसतन 4,000 लोगों की मौत हो जाती है. दुनिया में सबसे कड़े नियम शहर ने दृढ़ता से “डाइनैमिक जीरो” कोरोना वायरस नीति लागू की है जिसका उद्देश्य चीनी मुख्य भूभाग की तरह ही हर ऑउटब्रेक पर नियंत्रण पाना है. इस नीति के तहत हांग कांग में महामारी की शुरुआत के मुकाबले अभी बेहद कड़े कदम लागू किए हुए हैं. यहां पहले से ही जो नियम लागू थे वो दुनिया में सबसे कड़े थे और धीरे धीरे नए नियमों को भी जोड़ा गया है. शहर में अभी तक संक्रमण के कुल 1,71,000 मामले सामने आए हैं. इनमें से करीब 1,60,000 मामले फरवरी के बाद से ओमिक्रॉन वेरिएंट की वजह से सामने आए हैं. (पढ़ें: अनिवार्य टीके के खिलाफ यूरोप में भी निकलने लगा “आजादी का काफिला”) पहले मरने वालों के बारे में विस्तृत जानकारी भी आसानी से उपलब्ध नहीं थी, लेकिन हाल के दिनों में यह स्थिति बदली है और सरकार ने प्रेस वार्ताओं में बताया है कि मरने वालों में अधिकांश लोगों ने टीका नहीं लगवाया था. हांग कांग की नेता कैरी लैम ने कहा कि चीन के विशेषज्ञों ने उनके प्रशासन को सुझाया है कि वो इन मौतों के बारे में “लोगों को और स्पष्ट रूप से बताएं ताकि बुजुर्गों में टीकाकरण को और बढ़ाया जा सके” चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने हांग कांग की सरकार को महामारी पर नियंत्रण पाने को अपने “मुख्य मिशन” बनाने के लिए कहा है. इसके बाद चीनी अधिकारियों ने भी हांग कांग सरकार की मदद करना शुरू कर दिया है. सीके/एए (रॉयटर्स).

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button