विदेश

यूक्रेन से आ रही तस्वीरों में खून के आंसू और शहरों पर तबाही के जख्म साफ देखे जा सकते हैं।

इसके बावजूद यूक्रेन के लोग उसके साथ पूरी मानवता के साथ पेश आते हैं और उसके लिए चाय-नाश्ते का इंतजाम करते हैं

रूस और यूक्रेन के बीच जंग आठवें दिन भी जारी है। यूक्रेन से आ रही तस्वीरों में खून के आंसू और शहरों पर तबाही के जख्म साफ देखे जा सकते हैं। लेकिन, इन सबके बीच कुछ ऐसे वाकये भी सामने आ रहे हैं, जो हर किसी को भावुक कर सकते हैं।

तस्वीर में दिखाई दे रहा यह नजारा भी यूक्रेन का है, जहां एक रशियन सैनिक यूक्रेन के स्थानीय लोगों के सामने सरेंडर कर देता है। हालांकि, इसके बावजूद यूक्रेन के लोग उसके साथ पूरी मानवता के साथ पेश आते हैं और उसके लिए चाय-नाश्ते का इंतजाम करते हैं।

फोन पर अपनी मां से बात करते हुए रोने लगता है सैनिक इसी बीच एक यूक्रेनी महिला जवान से उसकी मां का मोबाइल नंबर लेकर अपने फोन से कॉल कर कहती है – ‘आपका बेटा हमारे यहां सुरक्षित है।’ इतना सुनते ही सैनिक अपनी मां के सामने फूट-फूटकर रोने लगता है। इसी बीच एक यूक्रेनी शख्स पीछे से कहता है कि पता नहीं ये रशियन सैनिक यहां क्यों आए, तो उसके जवाब में दूसरा यूक्रेनी शख्स कहता है – ‘ये इनकी गलती नहीं, किसी और की है।’ साफ है उसका इशारा रूस के प्रेसिडेंट व्लादिमिर पुतिन की ओर था।

भूखा-प्यासा था सैनिक सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस वीडियो को लेकर एक यूजर ने लिखा है – जिस तरह से ये सैनिक खा-पी रहा है। उससे लगता है कि वह काफी भूखा था। आखिरकार मानवता ने एक सैनिक के दिल को भी झकझोरकर रख दिया। प्लीज, इस बर्बादी को रोकिए।

ये महाशक्ति के योद्धा नहीं, बल्कि डरे हुए लड़ाके हैं : जेलेंस्की रूस की लगातार घातक बमबारी से यूक्रेन तबाही के दौर में पहुंच चुका है। हालांकि, इसका खामियाजा रूस को भी उठाना पड़ रहा है। अब तक रूस के हजारों सैनिक भी मारे जा चुके हैं। यूक्रेन ऑफिसियल की रिपोर्ट के अनुसार यूक्रेन में अब तक कम से कम 9 हजार सैनिक मारे जा चुके हैं। वहीं, बुधवार शाम यूक्रेन के राष्ट्रपति जेलेंस्की ने कहा कि ये महाशक्ति के योद्धा नहीं, बल्कि डरे हुए वे लड़ाके हैं, जो लड़ना नहीं चाहते। इसी के चलते उनका मनोबल टूट रहा है। अपने ही युद्धपोतों को तोड़ रहे हैं रशियन सैनिक : न्यूयॉर्क टाइम्स न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, यूक्रेन में सरेंडर कर रहे कई रशियन सैनिक खुद यह बात कबूल कर चुके हैं कि कुछ समय पहले तक खुद उन्हें भी नहीं पता था कि यूक्रेन के आम नागरिकों को भी कत्ल करने का ऑर्डर मिल जाएगा। इसी के चलते अब यूक्रेन की बर्बादी देखकर रशियन सैनिकों का मनोबल टूट रहा है। न्यूयॉर्क टाइम्स ने पेंटागन के एक अधिकारी के हवाले से कहा है कि अब तो रूसी सैनिक तबाही रोकने के लिए अपने ही युद्धपोतों में तोड़फोड़ तक कर रहे हैं। अपने टैंक छोड़कर खुद ही सरेंडर कर रहे हैं रशियन सैनिक एक ब्रिटिश खुफिया एजेंसी ने एक इंटरसेप्टेड रेडियो संदेश जारी कर न्यूयॉर्क टाइम्स के इन दावों की पुष्टि भी की है। इस वॉयस रिकॉर्डिंग में रूसी सैनिकों को युद्ध से इनकार करते हुए सुना गया है। इस वॉयस रिकॉर्डिंग से पता चलता है कि रूसी सैनिक यूक्रेनी शहरों पर बमबारी के आदेशों का पालन करने से इनकार कर रहे हैं। कई सैनिक तो खुद ही अपने टैंक छोड़कर यूक्रेनी लोगों को सामने सरेंडर कर माफी मांग रहे हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button