विदेश

शटडाउन के चलते लोगों ने कारोबार बदला, भारत में फूलों के दाम 20% तक बढ़े, पर सप्लाई में समस्या नहीं

30 साल से फ्लोरल इंडस्ट्री से जुड़ा हूं, पर फूलों की ऐसी किल्लत कभी नहीं देखी। समस्या भी ऐसे समय पर आई है, जब वेडिंग सीजन और वैलेंटाइन डे जैसे इवेंट पर भारी डिमांड है

30 साल से फ्लोरल इंडस्ट्री से जुड़ा हूं, पर फूलों की ऐसी किल्लत कभी नहीं देखी। समस्या भी ऐसे समय पर आई है, जब वेडिंग सीजन और वैलेंटाइन डे जैसे इवेंट पर भारी डिमांड है…’ यह कहना है अमेरिकी फ्लोरल डिजाइन कंपनी एड लिब्बी इवेंट्स के पार्टनर बॉब कोंटी का।

अमेरिका में इस सीजन में करीब 25 लाख शादियां होनी हैं। लोग लाखों डॉलर खर्च करने के लिए तैयार हैं। कोंटी कहते हैं कि शादियों में खासतौर पर इस्तेमाल होने वाले सफेद फूल और विशेष गुलाब हैं ही नहीं। न ही इनके मिलने की उम्मीद है।

कैंडल्स ले रहे लोग, पर यह उनकी पसंद नहीं कोंटी कहते हैं कि हम लोगों को वादा नहीं कर पा रहे हैं। फूलों के बजाय वैकल्पिक पौधों और कैंडल्स का इस्तेमाल कर रहे हैं। पर लोगों को ये पसंद कम ही आ रहा है। न्यूयॉर्क में एचएमआर डिजाइन के चीफ क्रिएटिव ऑफिसर ऋषि पटेल कहते हैं, पहले प्राकृतिक आपदा के कारण फूल नहीं मिल पाते थे तो दूसरी जगह या देश से व्यवस्था हो जाती थी। बस थोड़ा ज्यादा खर्च करना होता था। पर इस बार तो दुनियाभर में किल्लत है।

पटेल बताते हैं कि मुश्किल से व्हाइट फ्लॉवर मिल भी रहे हैं तो दाम 25% से 50% तक बढ़ गए हैं। 125 रुपए वाला गुलाब 250 रुपए में बिक रहा है। 11 अमेरिकी राज्यों में कारोबार करने वाले पेट्रिक डैल्सन बताते हैं, ड्राइवर्स की कमी के कारण ट्रांसपोर्टेशन की समस्या भी बढ़ी है। अंतरराष्ट्रीय उड़ानें कम होने से बाहर से मंगाने में भी मुश्किलें आ रही हैं। इसके चलते कई बार फूलों को कोल्ड स्टोरेेज में रखना पड़ता है, ज्यादा वक्त होने के बाद वे काम के नहीं रह जाते।

भारत में फूलों के दाम 20% तक बढ़े, पर सप्लाई में समस्या नहीं भारत में फूलों की सप्लाई की सप्लाई में ज्यादा समस्या नहीं है इसलिए शादियों की डिमांड तो पूरी हो पा रही है। दिल्ली में फूलों के कारोबार से जुड़े अर्जुन कुमार बताते हैं कि फूलों के दाम 20% तक बढ़ गए हैं। बेंगलुरु के बाहरी इलाकों में रोजाना 4 से 5 लाख गुलाब के फूल मिल पाते हैं। बड़ी संख्या में केआर मार्केट में बिकने के लिए जाते हैं। थोक विक्रेता अब्दुल रजाक बताते हैं कि सप्लाई की थोड़ी समस्या है, इसलिए भी दाम बढ़ गए हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button