बिज़नेस

पिछले तीन दिन से शेयर बाजार में गिरावट जारी है

मुद्रास्फीति और फेड दरों में बढ़ोतरी को लेकर चिंता के कारण आज भी बेंचमार्क इंडेक्स में गिरावट का माहौल है।

शेयर बाजार में पिछले तीन दिनों से गिरावट जारी है। मुद्रास्फीति और फेड दरों में बढ़ोतरी को लेकर चिंता के कारण आज भी बेंचमार्क इंडेक्स में गिरावट का माहौल है। बीएसई सेंसेक्स ने 60,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे है तो निफ्टी- 50 भी 17,900 के स्तर से नीचे चल गया है। दोपहर 1 बजे बीएसई 440 अंक नीचे 59,657 अंकों पर कारोबार कर रहा था, इसी तरह निफ़्टी भी 123 अंक नीचे 17,815 पर कारोबार कर रहा था। बाजार क्यों जा रहा है नीचे मोतीलाल ओसवाल फाइनेंसियल सर्विसेज में ब्रोकिंग और डिस्ट्रीब्यूशन के रिटेल रिसर्च हेड सिद्धार्थ खेमका का कहना है कि अमेरिकी ट्रेजरी यील्ड के लगभग दो साल के उच्च स्तर पर पहुंचने से वैश्विक बाजारों में बिकवाली का दबाव है। दुनिया भर में मुद्रास्फीति पर अंकुश लगाने के लिए सख्त मोनेटरी पालिसी की आशंका से निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई है। दिसंबर में ब्रिटेन में मुद्रास्फीति बढ़कर 5.4% हो गई, जो मार्च 1992 के बाद सबसे अधिक है। इराक से तुर्की तक एक पाइपलाइन पर आउटेज और राजनीतिक तनाव के बीच तेल की कीमतें भी 2014 के बाद से अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गई हैं। महंगाई का डर महंगाई का डर खत्म होने तक आने वाले समय में बाजार में कंसोलिडेशन जारी रहने की संभावना है। साथ ही, आगामी बजट और विभिन्न राज्यों के चुनाव जैसे प्रमुख कार्यक्रम आने वाले दिनों में ज्यादा अस्थिरता का कारण बन सकते हैं। खेमका का कहना है कि ट्रेडर्स को सतर्क रहने और स्टॉक के साथ सेक्टर के चुनाव में सावधानी बरतें। निवेशक बाजार में गिरावट का उपयोग लंबी अवधि के पोर्टफोलियो के लिए क्वालिटी स्टॉक जमा करने के अवसर के रूप में कर सकते हैं।
राहत क्या है?  इस सप्ताह तेल की कीमतों में जोरदार तेजी के बाद गिरावट आ रही है और अमेरिकी बॉन्ड यील्ड और डॉलर में तेजी थमी है, इस कारण बाजार को थोड़ी राहत मिली है। इसके अलावा, जापान में पहले दिन में सकारात्मक निर्यात डेटा और चीनी केंद्रीय बैंक द्वारा प्रमुख उधार दर में कटौती के रूप में कई महीनों में दूसरी बार एशियाई बाजारों में धारणा बढ़ी, इससे घरेलू बाजार में शेयरों की गिरावट को सीमित हुई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button