स्वास्थ्य

इन आदतों से बढ़ता है कार्डियक अरेस्ट का जोखिम

कार्डियक अरेस्ट और किन आदतों के कारण बढ़ता है कार्डियक अरेस्ट का खतरा।

क्या है कार्डियक अरेस्ट?

कार्डियक अरेस्ट आने पर दिल अचानक से धड़कना बंद कर देता है। मस्तिष्क और अन्य अंगों में रक्त के प्रवाह की कमी आ जाती है जिसकी वजह से व्यक्ति बेहोश हो सकता है। इस स्थिति का एक सामान्य कारण हृदय गति में आने वाली अनियमितता हो सकता है। हृदय की विद्युत प्रणाली ठीक से काम न करने के कारण कार्डियक अरेस्ट की स्थिति आती है। कार्डियक अरेस्ट की स्थिति में सीने में दर्द, दिल की धड़कन में अनियमितता, सांस लेने में कठिनाई, बेहोशी या चक्कर आने जैसी समस्या हो सकती है।

 

एक्टिव रहें

अगर आप रोजाना या सप्ताह में कुछ दिन व्यायाम करते हैं, तो शरीर सक्रिय रहता है। लेकिन अगर आप एक्सरसाइज करने के अलावा पूरा दिन लेटे रहते हैं या आराम करते रहते हैं तो दिल पर असर पड़ता है। दिल की मजबूती के लिए हमेशा ही एक्टिव रहना चाहिए।

दिल की सेहत का ख्याल

हृदय संबंधी किसी भी छोटी बड़ी परेशानी को अनदेखा न करें। हार्ट की परेशानियों से बचने के लिए कसरत करें और पौष्टिक आहार का सेवन करें। इसके अलावा अपना ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल और ब्लड शुगर का समय समय पर चेकअप कराते रहें

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button