बिज़नेसब्रेकिंग न्यूज़

Services PMI: अप्रैल में सर्विस सेक्‍टर का शानदार प्रदर्शन

भारत के सेवा क्षेत्र से नया व्यवसाय और उत्पादन अप्रैल में पांच महीनों में सबसे तेज गति से बढ़ा। इस दौरान भले ही इनपुट लागत में लगभग रिकॉर्ड वृद्धि हुई है। SP Global के सर्वे में यह बात सामने आई है।

देश के सर्विस सेक्‍टर का प्रदर्शन अप्रैल में शानदार रहा है। 5 महीनों में अप्रैल में इसमें तेज डिमांड आई। नवंबर के बाद कंपनियों ने बड़े पैमाने पर भर्ती की। यह तब है जब महंगाई की दर उच्‍च बनी हुई है। S&P Global India Services Purchasing Managers’ Index अप्रैल में 57.9 हो गया जो मार्च में 53.6 पर था। यह नवंबर के बाद सबसे ज्‍यादा है।

S&P Global में इकोनॉमिक्‍स एसोसिएट डायरेक्‍टर पॉलियाना डी लिमा के मुताबिक रायटर्स के पोल में इसे 54 आंका गया था। 9 माह में देखें तो इंडेक्‍स 50 के ऊपर बना हुआ है। 2011-12 के बाद यह वित्‍त वर्ष अच्‍छा बना हुआ है। सेवा क्षेत्र के लिए पीएमआई डेटा ज्यादातर उत्साहजनक रहा। क्योंकि बढ़ती मांग से नए कारोबार और उत्पादन में वृद्धि हुई।

उपभोक्ता सेवाएं और वित्त और बीमा अर्थव्यवस्था के शीर्ष प्रदर्शन करने वाले क्षेत्र थे। जबकि अचल संपत्ति और व्यावसायिक सेवाएं में बिक्री और उत्पादन में संकुचन देखा गया। हालांकि नए कारोबार पर नजर रखने वाला एक सब इंडेक्‍स बढ़कर अप्रैल में पांच महीने का उच्च स्तर पर पहुंच गया। फिर भी फर्मों को पांच महीने में पहली बार कर्मचारियों की संख्या बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया गया। हालांकि यह दर मामूली है। इससे रोजगार की स्थिति को बढ़ावा मिलने की संभावना कम है।

लिमा के मुताबिक व्यवसायों ने अप्रैल में उच्च रासायनिक, खाद्य, ईंधन, श्रम, सामग्री और खुदरा लागत की सूचना दी जो 2005 में पीएमआई डेटा संग्रह शुरू होने के बाद से इनपुट में समग्र मुद्रास्फीति दूसरी सबसे मजबूत गति से बढ़ रही है। कुछ फर्मों ने उच्च मजदूरी लागत की भी जानकारी दी, जिससे कुल खर्च बढ़ गया। फिर भी कंपनियों ने अप्रैल में अपने काम पर कर्मचारी रखने के प्रयासों को फिर से शुरू किया, जैसा कि पिछले नवंबर के बाद रोजगार में पहली तेज वृद्धि देखी गई ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button