देश

नुच्छेद 370 हटने के बाद से 439 आतंकी हुए ढेर, इतने जवान हुए शहीद; सरकार ने राज्यसभा को बताया

केंद्र शासित प्रदेश में 541 आतंकवाद से संबंधित घटनाएं दर्ज की गई हैं।

जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद से अब तक 439 आतंकवादी मारे गए हैं, जबकि केंद्र शासित प्रदेश में 541 आतंकवाद से संबंधित घटनाएं दर्ज की गई हैं। यह जानकारी गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने राज्यसभा में दी है। नित्यानंद राय ने राज्यसभा सांसद नीरज डांगी को एक लिखित जवाब में बताया कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के हटने के बाद से यानी 5 अगस्त 2019 से 26 जनवरी 2022 तक 541 आतंकी घटनाएं हुई हैं, जबकि 439 आतंकवादी मारे गए और 98 नागरिक मारे गए और 109 सुरक्षा बल (एसएफ) शहीद हुए हैं। बता दें कि राज्यसभा में आर्टिकल 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर में हुई आतंकी घटनाओं को लेकर पूछा गया था। साथ ही यह भी पूछा गया था कि इस दौरान अब तक कुल कितने सुरक्षाकर्मी आतंकियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए हैं।   गृह राज्य मंत्री ने उच्च सदन को आगे बताया कि इन घटनाओं के दौरान किसी भी महत्वपूर्ण सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान नहीं हुआ है। उन्होंने कहा, “हालांकि लगभग 5.3 करोड़ रुपये की निजी संपत्ति के नुकसान का आकलन किया गया है।” संसद का 2022 का बजट सत्र 31 जनवरी को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ शुरू हुआ। बजट सत्र का पहला भाग 31 जनवरी से 11 फरवरी तक और दूसरा भाग 14 मार्च से 8 अप्रैल तक चलेगा।

जैश कमांडर समेत 5 आतंकी ढेर

हाल ही में जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों नेदो अलग-अलग मुठभेड़ों में जैश ए-मोहम्मद के शीर्ष कमांडर और एक पाकस्तिान आतंकवादी सहित पांच आतंकवादियों को मार गिराया था। पुलिस ने रविवार यानी 30 जनवरी को बताया था कि मारे गए लोगों  में जैश कमांडर आतंकवादी जाहिद वानी और एक पाकस्तिानी आतंकवादी शामिल है। लेफ्टिनेंट जनरल देवेंद्र प्रताप पांडे के नेतृत्व में जम्मू और कश्मीर पुलिस और XV कॉर्प्स या चिनार कॉर्प्स के सहयोग से यह ऑपरेशन सफल हुआ।

जनवरी में मारे गए थे इतने आतंकवादी

जनवरी में ही सुरक्षा बलों ने अब तक 11 मुठभेड़ों में पाकिस्तान के आठ समेत 21 आतंकवादियों को ढेर कर दिया है। सुरक्षा बलों ने कश्मीर घाटी में हालिया नागरिक हत्याओं के बाद आतंकवाद विरोधी अभियान तेज कर दिया है जो विशेष रूप से इस क्षेत्र में अल्पसंख्यक समुदायों और प्रवासियों को टार्गेट करते हैं  

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button