उत्तर प्रदेश

दिव्यांगों को मिलेगा निशुल्क स्मार्ट कार्ड

परिवहन निगम ने पंजीकृत दिव्यांगजनों का ब्योरा मांगा

लखनऊ – यूपी परिवहन निगम की बसों में दिव्यांगजनों को मुफ्त यात्रा की सुविधा हासिल है ,लेकिन आये दिन इस तरह की शिकायत आम हो रही है कि इस सरकारी व्यवस्था का जमकर दुरूपयोग किया जा रहा है ।कई लोग बसों में दिव्यांगता का फर्जी प्रमाण पत्र बनाकर सरकार की इस विशेष सुविधा का बेजा इस्तेमाल कर रहे हैं ।अक्सर परिवहन निगम की बसों में होने वाले चेकिंग अभियान में इस तरह के मामले साफ तौर पर दिखायी पड़ते हैं । अब योगी सरकार ने इस समस्या का समाधान निकाल लिया है ।दिव्यांगता का फर्जी प्रमाण पत्र हासिल कर परिवहन निगमों की बसो में मुफ्त यात्रा का मजा लेने वालों के लिये नयी व्यवस्था फजीहत करने वाली है । दरअसल नयी व्यवस्था के अंतर्गत अब जो वाकयी दिव्यांग हैं जो दिव्यांगता के सरकारी मानको को पूरा करते हैं ,उन्हे सरकार निशुल्क स्मार्ट कार्ड जारी करने जा रही है ।इस व्यवस्था को कारगर तरीके से लागू करने की पूरी तैयारी परिवहन निगम की ओर से की जा चुकी है।परिवहन निगम ने दिव्यागं निदेशालय से प्रदेश भर के पंजीकृत दिव्यागंजनों का ब्योरा मांगा है,जिसके आधार पर पंजीकृत सारे दिव्यांगजनों को उनके जनपद के हीं बस अड्डे काउंटर से स्मार्ट कार्ड जारी किया जायेगा ।पहले चरण में योगी सरकार के इस पहल से 11 लाख दिव्यांगजनों को निशुल्क स्मार्ट कार्ड जारी किया जाने का लक्ष्य रखा गया है ।जिनकी दिव्यांगता 80 फीसदी से ज्यादा होगी उन्हे नियमानुसार एक सहयोगी को भी इस तरह के निशुल्क स्मार्ट कार्ड जारी किये जायेंगे।इस स्मार्ट कार्ड में दिव्यांग के नाम पता के अलावे उसकी दिव्यांगता का प्रतिशत भी दर्ज रहेगा ,जिससे बस कंडक्टर या फिर चेकिंग के दौरान अधिकारी आसानी से सारी जानकारी हासिल कर पायेंगे।इस व्यवस्था को लेकर परिवहन निगम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद तेजी से काम करना शुरू कर दिया है और जल्दी हीं इसे अमलीजामा पहनाने की भी तैयारी जोरों पर है। 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button