अन्यउत्तर प्रदेशदेशब्रेकिंग न्यूज़वाराणसी

वाराणसी कोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद विवाद को लेकर दिया बड़ा फैसला

कोर्ट की ओर से अपने फैसले में साफ किया जाना था कि मस्जिद में मिले शिवलिंग की कार्बन डेटिंग कराकर इसकी उम्र के संबंध में वैज्ञानिक साक्ष्य हासिल किए जाएं या नहीं।

Advertisements
AD

कोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद के वजुखाने में मिले कथित शिवलिंग की कार्बन डेटिंग नहीं कराने का आदेश दिया है। कोर्ट की ओर से अपने फैसले में साफ किया जाना था कि मस्जिद में मिले शिवलिंग की कार्बन डेटिंग कराकर इसकी उम्र के संबंध में वैज्ञानिक साक्ष्य हासिल किए जाएं या नहीं। हिंदू पक्ष इस शिवलिंग को प्राचीन विश्वेश्वर महादेव करार दे रहा है। वहीं, मुस्लिम पक्ष इसे लगातार फव्वारा बताते हुए कार्बन डेटिंग का विरोध कर रहा है। कोर्ट के फैसले ने ज्ञानवापी मुद्दे को एक बार फिर गरमा दिया है।

इसे लेकर सपा सांसद डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क ने अदालत के फैसले का स्वागत करते हुए कहा है कि हिंदू पक्ष की जो मांग थी कि कथित शिवलिंग की कार्बन डेटिंग की जाए इसकी क्या जरूरत है। सबसे पहले तो ज्ञानवापी मस्जिद या कोई भी मस्जिद हो उसके अंदर हिंदू धर्म की कोई भी चीज होने का सवाल ही पैदा नहीं होता है। यह धार्मिक मामला है मजहबी मामला है इस्लाम में सिर्फ अल्लाह की पूजा की जाती है न किसी पत्थर की, न सूरज की ओर किसी चीज की पूजा नहीं की जाती है। मस्जिद के अंदर कथित शिवलिंग का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता है। मुस्लिम ऐसी चीज क्यों रखेंगे जिसका कोई ताल्लुक नहीं है।

जिसको वह मना करते हैं। होज़ के अंदर शिवलिंग रखने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता है। क्योंकि इस वक्त बीजेपी सरकार मस्जिदों पर हमलावर हैं। मोहन भागवत ने भी कहा था कि हर मस्जिद में शिवलिंग मत निकालो। तब प्लानिंग के साथ में यह सब काम किया जा रहा है। कोई न कोई बहाना तलाश करके मस्जिद पर कोई कार्यवाही कर सकें। लेकिन यह मुनासिब नहीं है ये देश, आम जनता, धर्म के हित में नहीं है। इस तरह की कार्यवाही सरकार के लिए खतरा बन रही है। 2024 में बीजेपी को देश नकार देगा।

बाईट – डॉ. शफीकुर्रहमान बर्क, सपा सांसद सम्भल

  रिपोर्टर – उवैस दानिश

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button