उत्तर प्रदेशदेशब्रेकिंग न्यूज़वाराणसी

वाराणसी : राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष ने पूर्वांचल क्षत्रिय सम्मेलन कार्यक्रम की दी जानकारी

वाराणसी के चांदमारी स्थित एक निजी लॉन में श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह रघुवंशी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए मीडिया को जानकारी देते हुए 9 तारीख के होने वाले पूर्वांचल क्षत्रिय सम्मेलन कार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए बताया

वाराणसी के चांदमारी स्थित एक निजी लॉन में श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह रघुवंशी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए मीडिया को जानकारी देते हुए 9 तारीख के होने वाले पूर्वांचल क्षत्रिय सम्मेलन कार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि 9 तारीख को राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामेड़ी का आगमन जीवनदीप उत्सव वाटिका में होगा साथ ही पूरे पूर्वांचल से आते हुए क्षत्रिय भाई इस कार्यक्रम में शामिल होंगे.

मीडिया से बातचीत करते हुए राकेश सिंह रघुवंशी ने कहा कि क्षत्रियों के उत्थान के लिए सम्मेलन में निम्न बिंदुओं पर विचार विमर्श किया जायेगा –

1- क्षत्रिय समाज को अनदेखा न किया जाए,समाज के हर क्षेत्र में क्षत्रिय समाज की सहभागिता सुनिश्चित की जाए

2 :- राजपूतो के इतिहास संरक्षण की लड़ाई करणी सेना लड़ती आरही है और आगे भी ये लड़ाई अनवरत जारी रहेगी, महापुरूषों की जाती नही बदली जाए । महाराज सुहेलदेव बैस राजपूत थे आज उनकी जाति बदली जा रही है करणी सेना इसका कड़ा विरोध करेगी । जरूरत पड़ी तो पूरे देश भर में विशाल आंदोलन किया जाएगा । महाराजा मिहिरभोज प्रतिहार राजपूत थे आज उनको गुज्जर बताया जा रहा है । आल्हा उदल क्षत्रिय थे कुछ लोग उनको भी यादव बता रहे जबकि वो बनाफर राजपूत थे । सम्राट पृथ्वीराज चौहान जी क्षत्रिय थे आज उनको नोनिया बोला जब रहा है । मेरी लड़ाई किसी समाज के खिलाफ नही है लेकिन जो हमारे इतिहास से छेड़छाड़ करेगा तो करणी सेना ये बर्दाश्त नही करेगी ।

3:- एक्ट्रो सिटी एक्ट में संसोधन किया जाए । बेगुनाहों को जबरन जेल न भेजा जाए । हमारी मांग है कि ऐसे मामलों में नार्को टेस्ट करवाया जाए और फर्जी मुकदमा लिखवाने वालो पर सख्त करवाई की जाए । ऐसे कई मामले हुए है जिनमे राजपूतों को टारगेट कर के बिना वजह फसाया गया है ।

4:- आर्थिक आधार पर आरक्षण लागू किया जाए, स्वर्णो को मिलने वाले 10% ईडब्लूएस को बिना किसी शर्त के लागू किया जाए ।

5 :- स्वर्ण आयोग का गठन किया जाए ताकि जब सवर्णों पर अत्याचार हो तो आयोग उनकी आवाज को उठा सके । जब देश मे अन्य प्रकार के आयोग है तो फिर स्वर्ण आयोग आज तक क्यों नही बना ।

6 :- पूरे देश मे एक सोची समझी राजनीति के तहत राजपूतो की जनसंख्या कम आंकने का प्रयास किया गया है । पूरे देश मे राजपूतो की संख्या 15% है और हमारे खिलाफ नैरेटिव सेट किया गया है कि हम राजपूत 5 से 8 % है ।

7 :- इस प्रकार के विशाल क्षत्रिय सम्मेलन 2024 के लोकसभा चुनाव तक पूरे देश मे आयोजित किये जायेंगे। हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री सुखदेव सिंह गोगामेड़ी जी के नेतृत्व में पूरे देश मे इस प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे ।

रिपोर्टर – पुरुषोत्तम सिंह

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button