स्वास्थ्य

दिमाग पर असर डाल रहा वायरल फीवर

वायरस में हो रहे म्यूटेशन के कारण वायरल फीवर के हर रोगी में दिख रहे हैं अलग लक्षण और प्रभावित हो रहा है

वायरस में हो रहे म्यूटेशन के कारण वायरल फीवर के हर रोगी में दिख रहे हैं अलग लक्षण और प्रभावित हो रहा है दिमाग।

 मौसमी फीवर में खांसी, जुकाम, शरीर में दर्द, गले में खराश, मुंह का स्वाद खराब होना, सिरदर्द आदि लक्षण देखे जाते हैं, लेकिन वायरस में हो रहे म्यूटेशन के कारण अब संक्रमित के लक्षणों के आधार पर यह नहीं कहा जा सकता है कि रोगी किस फीवर से पीडि़त है। मौसमी फीवर लक्षण चिकनगुनिया, मेनेनजाइटिस, डेंगू आदि के रोगियों में भी होते हैं। इन दिनों आ रहे फीवर के मामलों में ऐसे रोगियों की भी संख्या काफी है, जो शारीरिक ही नहीं, मानसिक पीड़ा से भी ग्रसित हैं, जबकि अभी तक मेनेनजाइटिस फीवर का असर ही दिमाग में पड़ता था। इसलिए यदि बुखार होने पर रोगी बेहोशी की स्थिति में आता है एंटीबायोटिक व दर्द की दवाओं के सेवन से बचें: यदि फीवर की चपेट में आते हैं तो शुरुआत में पैरासीटामोल का सेवन करें। हालांकि अच्छा यही रहेगा कि बिना देरी किए चिकित्सकीय सलाह लें। आजकल लोग फीवर के शुरुआत में ही खुद से दर्द निवारक व एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन करने लगते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button