अन्य

वैज्ञानिकों ने एक नयी तकनीक को तैयार किया है जिसमें खूंटे से बंधी गाय भी हरे-भरे मैदान की सैर कर पाएंगी।

जैसा हमनें लॉकडाउन के दौरान देखा, एक जगह पर ही बंधे रहना हमारी खुशियों को खत्म कर देता है, फिर चाहे वह इंसान हो या जानवर। इसका असर स्वास्थ्य पर दिखने लगता है।

जैसा हमनें लॉकडाउन के दौरान देखा, एक जगह पर ही बंधे रहना हमारी खुशियों को खत्म कर देता है, फिर चाहे वह इंसान हो या जानवर। इसका असर स्वास्थ्य पर दिखने लगता है। वैज्ञानिकों ने एक नयी तकनीक को तैयार किया है जिसमें खूंटे से बंधी गाय भी हरे-भरे मैदान की सैर कर पाएंगी। इसे वर्चुअल रियलिटी हेडसेट फॉर काउस का नाम दिया गया है। रूस की राजधानी मॉस्को के वैज्ञानिकों ने गायों के लिए एक चमत्कारी हेडसेट तैयार किया है, जिससे वह बाड़ में ही खुले मैदान में घूमने की खुशी हासिल कर सकेंगी। खुशी के सकारात्मक प्रभाव से उनके दूध देने की क्षमता पर भी असर पड़ेगा। रशियन वैज्ञानिकों ने ये वर्चुअल रियलिटी हेडसेट को 2019 मे ही बना लिया था, लेकिन इसका इस्तेमाल तुर्की के पशुपालक इज्जेक कोकक ने 2 साल तक अपनी गायों पर किया। इसके इस्तेमाल के बाद, रिपोर्ट के मुताबिक गायो की दूध देने की क्षमता पर इसका काफी प्रभाव पड़ा। 22 लीटर दूध देने वाली गाए अब 27 लीटर दूध देने लगी। इज्जेक कहते है कि गायों को इसकी मदद से हरे-हरे मैदान दिखते है जिससे वे खुश हो जाती है और उन्होंनें 10 और हेडसेट बुक किए है। इसके अलावा कुछ तरीके है जो गायों को खुश रख सकते हैं। काफी तरीके जो इज्जेक ने आजमायें उसमें गायों को शास्त्रीय संगीत भी सुनाया, जिसने उनकी दूध देने की क्षमता बढ़ा दी। रूस के कृषि मंत्रालय के अनुसार गायो को नीला रंग और हरा रंग पसंद है जो उनके तनाव को कम करता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button