स्वास्थ्य

क्या होती है टाइप-1.5 डायबिटीज़?

डायबिटीज़ की तरह टाइप 1.5 डायबिटीज़ आपके शरीर में पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं कर पाने का परिणाम होता है।

 टाइप-1 और टाइप-2। दिलचस्प बात यह है कि तीसरी तरह की डायबिटीज़ भी होती है, जिसे टाइप- 1.5 डायबिटीज़ के नाम से जाना है। यह टाइप-1 और टाइप-2 डायबिटीज़ से अलग होती है और इसका मेडिकल नाम है ‘लेटेन्ट ऑटोइम्यून डायबिटीज़ इन अडल्ट्स’

LADA या type 1.5 डायबिटीज़ की वजह क्या है?

यह निर्धारित करने का कोई तरीका नहीं है कि हानिकारक रोगजनकों से हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली की रक्षा के लिए मौजूद एंटीबॉडीज़ अचानक, शरीर की अपनी इंसुलिन-उत्पादक कोशिकाओं को नष्ट करना शुरू कर देती हैं।

1.5 डायबिटीज के लक्षण क्या हैं?

टाइप-2 डायबिटीज की तरह धीरे-धीरे शुरू होती है। हालांकि, यह दोनों तरह की डायबिटीज बेहद अलग हैं, क्योंकि  lada  एक ऑटो-इम्यून बीमारी है, जिसे डाइट और लाइफस्टाइल में बदलाव कर नहीं रोका जा सकता है

इसका पता कैसे लगाया जा सकता है?

जैसा कि बताया गया है कि टाइप-1.5 डायबिटीज़ आमतौर पर वयस्कों में देखी जाती है, खासतौर पर 40 की उम्र के बाद। इसलिए इसे आमतौर पर टाइप-2 डायबिटीज़ समझने की गलती की जाती है। फिर भी सबसे पहला स्टेप है कि ब्लड शुगर के स्तर की जांच की जाए। लेकिन इससे यह नहीं पता चलता कि आपको किस तरह की डायबिटीज़ है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button